Advertisement

कोरोना से लड़ने के लिए शाहरुख ने उठाया एक और बड़ा कदम, बीएमसी को दिया चार मंज़िला ऑफिस

बॉलीवुड के किंग खान यानी शाहरुख खान (shahrukh khan) की समूह कंपनियां ने हाल ही में कोविड-19 की लड़ाई में प्रधान मंत्री, श्री नरेंद्र मोदी जी और सरकार के प्रयासों का समर्थन करते हुए कई तरह से मदद के लिए हाथ आगे बढ़ाया।

706

बॉलीवुड के किंग खान यानी शाहरुख खान (shahrukh khan) की समूह कंपनियां कोलकाता नाइट राइडर्स, रेड चिलीज एंटरटेनमेंट, मीर फाउंडेशन और रेड चिलीज वीएफएक्स ने हाल ही में कोविड-19 की लड़ाई में प्रधान मंत्री, श्री नरेंद्र मोदी जी और सरकार के प्रयासों का समर्थन करते हुए कई तरह से मदद के लिए हाथ आगे बढ़ाया। अब शाहरुख ने देश की मदद के लिए एक ओर कदम उठाया है।

Advertisement

शाहरुख खान ने अब बीएमसी को क्‍वारंटाइन कैपेसिटी का विस्तार करने में मदद करते हुए अपना चार-मंजिला व्यक्तिगत ऑफिस दे दिया है। जहाँ क्‍वारंटाइन में रखे गए बच्चों, महिलाओं और बुजुर्गों के लिए ज़रूरत की सभी चीज़े भी उपलब्ध करवाई गई हैं।

शाहरुख खान की इस मदद का बीएमसी ने आभार जताया है। बीएमसी ने सोशल मीडिया हैंडल पर शाहरुख का इस तरह शुक्रिया अदा किया।

इस पहल के साथ, शाहरुख खान ने अपनी कंपनियों के समूह के साथ अपना समर्थन बढ़ाया है। सरकारी कोष से ले कर 50,000 पीपीई किट, मुंबई के 5500 परिवारों की खाद्य आवश्यकताओं, अस्पतालों में 2000 लोगों को पका हुआ भोजन, 10,000 लोगों के लिए 3 लाख भोजन किट, दिल्ली में 2500 दिहाड़ी मजदूरों के लिए किराने और 100 एसिड सर्वाइवर को आर्थिक मदद प्रदान करने तक, उनकी पहल का उद्देश्य सोसाइटी के विभिन्न लोगों तक पहुंचना है।

[यह भी पढ़ें:कोरोना संकट के बीच गरीबों के लिए फिर मसीहा बनें शाहरुख़, दान में दिए करोड़ों]

यह सुनिश्चित करते हुए कि रोज़मर्रा की चीज़ें ज़रूरतमंद लोगों तक पहुंचे, जो मुश्किल के इस समय में इनसे वंचित हैं, आवंटित धनराशि को निम्नलिखित भागीदारों के बीच वितरित किया जाएगा। इसका उद्देश्य न केवल महामारी के दौरान राहत प्रदान करना है बल्कि कोविड ​​-19 के बारे में जागरूकता बढ़ाना और अधिक लोगों को आगे आने व मदद करने के लिए प्रोत्साहित करना है।

सुपरस्टार का यह नया कदम, कोरोनोवायरस के प्रसार को रोकने के उनके प्रयासों में बीएमसी की मदद करेगा। आपको ये खबर कैसी लगी आप हमे ज़रूर बताइये। बॉलीवुड बबल पर मनोरंजन की खबरें पढ़ते रहिए।

Advertisement