Advertisement

पिता जगदीप को याद कर भावुक हुए जावेद जाफरी, शेयर की बेहद इमोशनल पोस्ट 

पिता जगदीप (Jagdeep) को याद कर इमोशनल हुए जावेद जाफरी (Jaaved Jaaferi)

397

बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता और मशहूर कॉमेडियन जगदीप(Jagdeep) उर्फ़ सूरमा भोपाली ने 8 जुलाई को दुनिया को अलविदा कह दिया था। जगदीप को फिल्म शोले में उनके मशहूर किरदार सूरमा भोपाली के लिए पहचाना जाता है। जगदीप के निधन से उनके बेटे जावेद जाफरी(Jaaved Jaaferi) बेहद दुखी हैं। उन्होंने अपने पिता को याद करते हुए सोशल मीडिया पर एक भावुक पोस्ट शेयर की है। जावेद ने मुश्किल वक़्त में साथ देने वाले सभी फैंस और दोस्तों का धन्यवाद किया हैं। 

Advertisement

जावेद ने अपने ट्विटर अकाउंट से पोस्ट शेयर करते हुए लिखा कि, ‘ मेरे पिता के निधन के दुख को जिन लोगों को पूरे प्रेम, पछतावे और सराहना के साथ बांटा उनका मैं तहे दिल से धन्यवाद करता हूं। इतना प्यार,इतनी इज्जत,.इतनी दुआएं? यही तो है 70 सालों की असली कमाई।
10 से 81 तक उनका जीना और साँस लेना फिल्मों के लिए था। 7 साल की उम्र में अपने पिता और इस उम्र में बंटवारे के चलते सारी अच्छी चीजें खो देने के बाद उनके लिए मुंबई की सड़कों पर गुजारा करना बहुत कठिन था। जैसे कि एक 8 साल के बच्चे को उसकी मां के साथ समुद्र में फेंक दिया हो और उन्हें या तो डूबना था या तो तैरना था। छोटी फैक्ट्रीयों में काम करने से लेकर पतंग बनाने तक, साबुन बेचने और एक मालिशवाले के साथ उसके तेल का डब्बा थम कर ‘मालिश तेल मालिश’ चिल्लाते हुए चलने तक। 10 साल की उम्र में मंजिल ने उन्हें सिनेमा से मिलकर अंधेरे गुफे में रौशनी से मिलाया। 

 

जावेद ने अपने पोस्ट का अंत करते हुए लिखा कि, ‘हिंदुस्तान के लोगों को दो चीजों से बहुत लगाव था, एक है मां दूसरा सिनेमा। मेरे पिता को भी दोनों से बेहद लगाव था। मैं अपने पसंदीदा दोहे के साथ समाप्त करना चाहूंगा, जिसे उनकी मां ने सख्त रुख के तहत उद्धृत किया था और जिसे वह लगातार एक रिमाइंडर के रूप में इस्तेमाल करते थे।
‘वो मंज़िल क्या, जो आसनी से तय हो, वो राही क्या, जो थक कर बैठ जाए। मगर अफसोस जिंदगी कभी कभी थक कर बैठने पर मजबूर कर देती है। हौंसला बुलंद होता है पर जिस्म साथ नहीं देता। उस व्यक्ति के लिए जिन्हें मैं ‘पापा’ कहकर पुकारता था और दुनिया अलग-अलग अवतार से जानती है। सलाम, आपका नाम सूरमा भोपाली ऐसे नई था’।
बता दें कि, ‘जगदीप ने 81 वर्ष की उम्र में मुंबई में अंतिम सांसें ली। वे बढ़ती उम्र संबंधित परेशानियों से जूझ रहे थे। हम ईश्वर से उनकी आत्मा की शांति और इस कठिन वक़्त में उनके परिवार को दुख सहन करने के लिए शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना करते हैं।

Advertisement