Advertisement

जावेद अख़्तर ने लाउडस्पीकर से अजान देने पर जताई आपत्ति, लोगों ने कर दिया जमकर ट्रोल

जावेद अख्तर (Javed Akhtar) अपनी बेबाकी के लिए जाने जाते हैं। चाहे कोई सामाजिक मुद्दा हो या राजनीतिक जावेद अख्‍तर अपनी बात पूरी बेबाकी के साथ रखते हैं।

1,216

गीतकार और लेखक जावेद अख्तर (Javed Akhtar) अपनी बेबाकी के लिए जाने जाते हैं। चाहे कोई सामाजिक मुद्दा हो या राजनीतिक जावेद अख्‍तर अपनी बात पूरी बेबाकी के साथ रखते हैं। हालांकि, इनको लेकर वह अक्‍सर ट्रोलर्स के निशाने पर आ जाते हैं। बता दें, जावेद अख्तर ने हाल ही में लाउडस्पीकर पर अजान देने को परेशान करने वाला बताया। अपने इस बयान को लेकर वह एक बार ट्रोलर्स के निशाने पर आ गए हैं। जानें क्‍या है पूरा मामला…

Advertisement

जावेद अख्‍तर (Javed Akhtar) ने अपने हालिया ट्वीट में लिखा, “भारत में तकरीबन 50 साल तक लाउडस्पीकर पर अजान हराम थी। इसके बाद ये हलाल हो गई और इस कदर हलाल हुई कि इसकी कोई सीमा ही नहीं रही। अजान करना ठीक है लेकिन लाउडस्पीकर पर इसे करना दूसरों के लिए असुविधा का कारण बन जाता है। मुझे उम्मीद कि कम से कम इस बार वो इसे खुद करेंगे।” ट्वीटर पर गीतकार द्वारा ऐसा लिखना काफी भारी पड़ रहा है। लोग उनका यह बयान पढ़कर उन्‍हें जमकर ट्रोल कर रहे हैं। देखें लोगों के रिएक्‍शन..

Source-Instagram
Source-Instagram
Source-Instagram
Source-Instagram
Source-Instagram

जावेद अख्तर (Javed Akhtar) के इस ट्वीट के बाद एक यूजर ने लिखा कि, ‘हमारे यहां रोज मंदिर में लाउडस्पीकर पर भजन बजते हैं इस पर आपकी क्या राय है?’ इस पर जावेद अख्तर ने जवाब दिया, ‘वो मंदिर हो या मस्जिद, कभी किसी त्योहार पर लाउडस्पीकर हो, तो चलो ठीक है। लेकिन रोज रोज तो न मंदिर में होना चाहिए न मस्जिद में। हजार से अधिक वर्षों के लिए अजान लाउडस्पीकर के बिना दी गई थी। अजान आपके विश्वास का अभिन्न अंग है, यह गैजेट नहीं है।’

(यह भी पढ़ें : इरफ़ान खान की नैशनल स्कूल ऑफ़ ड्रामा से अनदेखी यादगार तस्वीरें आईं सामने, देखकर भावुक हो जाएंगे आप)

हालांकि यह पहला मौका नहीं जब गीतकार और लेखक जावेद अख्तर (Javed Akhtar) ट्रोल हुए हों। बल्‍कि इसके पहले भी वह कई बार ट्रोल हो चुके हैं। मनोरंजन से जुड़ी खबरें जानने के लिए बॉलीवुड बबल के साथ बने रहें।

Advertisement