होम » रिव्यू » कबीर सिंह मूवी रिव्यू

Advertisement

मूवी रिव्यू: इश्क में नाकामयाब हुए सिरफिरे सर्जन की दीवानगी बयां करती है ‘कबीर सिंह’

उड़ता पंजाब के बाद एक बार फिर शाहिद अनोखे अवतार में नज़र आ रहे हैं।

207
  • सिनेमा – कबीर सिंह (Kabir Singh)
  • कलाकार – शाहिद कपूर, कियारा आडवाणी, सुरेश ओबेरॉय, करण सिंह
  • निर्देशक – संदीप वांगा
  • अवधि – 2 घंटे 52 मिनट

Advertisement

प्रस्तावना

तेलुगु हिट फिल्म अर्जुन रेड्डी की बॉलीवुड रीमेक कबीर सिंह अपने ट्रेलर और गानों को लेकर चर्चा में बनी है। उड़ता पंजाब के बाद एक बार फिर शाहिद अनोखे अवतार में नज़र आ रहे हैं। शाहिद और कियारा की यह प्रेम कहानी सुर्खियां तो बटोर रही है, लेकिन क्या यह आपका मनोरंजन कर पाएगी? आइये जानते हैं।

कहानी

कबीर सिंह मेडिकल के टॉपर कबीर सिंह (शाहिद कपूर) की अनोखी प्रेम कहानी है। फर्स्ट ईयर की प्रीति (कियारा आडवाणी) से कबीर को पहली नज़र में प्यार हो जाता है। दोनों में इश्क होता है। लेकिन प्रीति के परिवार वाले कबीर को पंसद नहीं करते। प्यार में नाकामयाब होने पर दिलजला कबीर देवदास बन जाता है। नशे की लत के कारण उसके पिता (सुरेश ओबेरॉय) उसे घर से बाहर कर देते हैं। फिर शुरू होती है कबीर के संघर्ष की दास्तां।

क्या कबीर सिंह नशे की लत से बाहर आ पाता है? क्या प्रीति कबीर की ज़िंदगी में वापस आती है? इन सवालों के जवाब जानने के लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी।

अदाकारी

शाहिद कपूर ने अपने करियर में एक और यादगार किरदार निभाया है। हैदर, उड़ता पंजाब के बाद उनका यह किरदार हमेशा याद किया जाएगा। कियारा की भूमिका ज़्यादा तो नहीं है पर वो स्क्रीन पर अच्छी लगती हैं। बाकी के कालाकारों ने भी अच्छी अदाकारी की है।

निर्देशन

अर्जुन रेड्डी के निर्देशक संदीप वांगा ने फिल्म को निर्देशित किया है। उनहोंने फिल्म को दिलचस्प बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। उनका काम सराहनीय है।

संगीत

फिल्म का संगीत आकर्षक है। फिल्म के गाने रिलीज़ से पहले ही पसंद किये गए। बैकग्राउंड स्कोर भी प्रभावित करता है।

ख़ास बातें

  1. शाहिद कपूर का किरदार और उनकी अदाकारी।
  2. संवाद मनोरंजक हैं।
  3.  फिल्म आख़िर तक बांधे रखती है।

कमज़ोर कड़ियाँ

  1. फिल्म आधा घंटा छोटी हो सकती थी।
  2. कुछ संवाद और दृश्य परिवार संग नहीं देख सकते।
  3. कुछ बातें बार-बार दोहराने से निरर्थक लगती हैं।
  4. अर्जुन रेड्डी देखने वालों को उतना प्रभावित नहीं कर पाएगी।

 

60%
शानदार

देखें या ना देखें

ऐसी कहानियां पहले भी बनी हैं लेकिन कबीर सिंह आपका मनोरंजन करती है। शाहिद ने भी अपना किरदार बखूबी निभाया है। जिस कारण आप इस फिल्म को देख सकते हैं। युवा वर्ग को फिल्म प्रभावित करेगी।

  • Rating

Advertisement