Advertisement

कसौटी जिंदगी के 2 अपडेट: जेल में अनुराग की इस बात से आग बबूला हुए मिस्टर बजाज, दिया करारा जवाब

'कसौटी जिंदगी के 2' में अनुराग (Parth Samthaan) जेल में बजाज (Karan Singh Grover) से मुलाकात करने गया। यहां वह प्रेरणा (Erica Fernandes) को लेकर बजाज से ऐसी बात कहता है कि बजाज (Karan Singh Grover) आगबबूला हो जाता है।

226

कसौटी जिंदगी की 2 (Kasauti Zindgi ki 2) में 24 सितंबर को दिखाया गया कि जेल में अनुराग  (Parth Samthaan)  और प्रेरणा (Erica Fernandes) एक दूसरे से बातचीत करते हुए नज़र आ रहे हैं। यहां अनुराग उसे कहता है कि वह उसे दिखाने के लिए बजाज (Karan Singh Grover) का हाथ पकड़कर उससे बात कर रही थी। अनुराग उसे कहता है कि जिस तरह से वह कमोलिका के साथ ड्रामा कर रहा है उसी तरह वह भी बजाज के साथ कह रही है। अनुराग उसे यह सब करने से मना करता है तब प्रेरणा उसे कहती है कि वह उसकी तरह नहीं है। तब अनुराग उसे कहता है कि वह उससे कितना प्यार करता है।

Advertisement

दोनो की बातचीत के दौरान मासी वहां आ जाती है और दोनो को बात करती हुई देख लेती है। वह उनके पास जाती है औऱ प्रेरणा को बुला लेती है। तब अनुराग कहता है कि मासी को पता है कि सच्चा प्यार हमेशा जीतता है। प्रेरणा के जाने के बाद वहां से अनुराग बजाज से मिलने चला जाता है। यहां वह मिस्टर बजाज को वह कहता है कि उसे प्रेरणा चाहिए। तब बजाज कहता है कि लगता है उसके सर पर गहरी चोट आई है। तब अनुराग उसे कहता है कि वह फ्रस्टेशन में बाते कर रहा है। बजाज से बहस करने के बाद अनुराग वहां से चला जाता है।

[यह भी पढ़ें: कसौटी जिंदगी के 2 अपडेट: आखिरकार मिस्टर बजाज ने किया खुद को पुलिस के हवाले, जानिए वजह]

दूसरी तरफ बासुवाड़ी में मोहिनी अपने दोस्तों के सामने शारदा और प्रेरणा को ताने मारती है। तब शारदा उसे करारा जवाब देती है और चली जाती है। प्रेरणा दोनो को रोकने की कोशिश करती है। तब शारदा प्रेरणा को अकेले में ले जाकर कहती है कि बजाज की बेइज्जती करने वाले को उसे भी कुछ कहना चाहिए। यहां बजाज प्रेरणा के बारे में सोचता है।

एक सीन में प्रेरणा को कुकी को सुलाती है, तब अनुराग आ जाता है वहां। वह प्रेरणा की इजाजत लेकर कुकी को सुलाने लगता है। प्रेरणा अनुराग से उसकी तबियत के बारे में पूछती है। तब अनुराग कहता है कि अब उसने पूछ लिया है तो सब ठीक हो जाएगा। दूसरे सीन में प्रेरणा को मासी कहती है कि बजाज इसलिए बाहर नहीं आना चाहता क्योंकि वह उसपर शक करती है। तब प्रेरणा मासी को कहती है भरोसा थोपा नहीं बल्कि जीता जाता है।

 

Advertisement