Advertisement

मलंग मूवी रिव्यू: एक्शन और एंटरटेनमेंट से भरपूर दिलचस्प रिवेंज ड्रामा

शानदार ट्रेलर और गानों के कारण फिल्म मलंग (malang) चर्चा का विषय बनी हुई है। फिल्म को लेकर दर्शक काफी उत्साहित हैं। आइये जानते हैं फिल्म आपका मनोरंजन कर पाएगी या नहीं।

440
  • सिनेमा – मलंग
  • सिनेमा प्रकार – एक्शन थ्रिलर
  • अदाकार – अदित्य रॉय कपूर, दिशा पटानी, अनिल कपूर, कुणाल खेमू, एली अवराम
  • निर्देशक – मोहित सूरी
  • अवधि – 2 घंटे 14 मिनट

Advertisement

प्रस्तावना

शानदार ट्रेलर और गानों के कारण फिल्म मलंग (malang) चर्चा का विषय बनी हुई है। फिल्म को लेकर दर्शक काफी उत्साहित हैं। आइये जानते हैं फिल्म आपका मनोरंजन कर पाएगी या नहीं।

कहानी

गोवा के एनकाउंटर स्पेशलिस्ट इंस्पेक्टर अंजनेय आगाशे (अनिल कपूर) का एक ही उसूल है, क्रिमिनल को गोली मारो और केस ख़त्म करो। क्रिसमस के दिन एक ऐसा ही केस निपटाने के बाद आगाशे के फोन की घंटी बजती है। कॉलर आगाशे को सूचित करता है कि वो एक हत्या करने वाला है। कुछ देर बाद वाकई एक इंस्पेक्टर की बहुत बुरी तरह से हत्या हो जाती है। इंस्पेक्टर माइकल रोड्रिग्स (कुणाल खेमू) हत्यारे को पकड़ने का बीड़ा उठाता है। हालांकि किलर के निशाने पर और भी लोग होते हैं। जिसकी जानकारी वो आगाशे को देता है।

एक्शन के साथ कहानी मे रोमांस शुरू होता है, अद्वैत (आदित्य रॉय कपूर) और सारा (दिशा पटानी) की अचानक मुलाकात होती है। दोनों को इश्क़ हो जाता। लेकिन अचानक दोनों की ज़िंदागी मे भूचाल आ जाता है। ये भूचाल क्या होता है? आखिर क्यों किलर एक के बाद एक कई सनसनीखेज हत्याओं को अंजाम देता है? हर हत्या से पहले किलर आगाशे को क्यों कॉल करता है? इन सवालों के जवाब जानने के लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी।

अदाकारी

आदित्य रॉय कपूर और दिशा पटानी ने बहुत शानदार अदाकारी की है। ये दोनों कि यादगार फिल्म होगी। दोनों की केमिस्ट्री भी खूब जचती है। अनिल कपूर ने जब जब स्क्रीन पर आते हैं तो फिल्म और मजेदार लागने लगती है। कुणाल खेमू ने अच्छा प्रयास किया है। हालांकि वो और बेहतर हो सकते थे। एली अवराम अपनी भूमिका मे फिट लगती हैं।

निर्दशन और छायांकन

मोहित सूरी का निर्देशन और विकाश शिवरमन का छायांकन लाजवाब है।

संगीत

फिल्म का संगीत पहले से ही पसंद किया जा रहा है। हमराह, मलंग जैसे गाने प्रभावित करते हैं। बैकग्राउंड स्कोर कमाल है।

खास बातें

  1. एक्शनपैक्ड फिल्म।
  2. अंत तक रोमांचक।
  3. शानदार डायलॉग।
  4. आकर्षक लोकेशन।

कमजोर कड़ियाँ

  1. कुछ समय बाद प्रेडिक्टेबल हो जाती है।
  2. कुणाल खेमू और बेहतर हो सकते थे।
  3. ए सर्टिफाइड होने के कारण परिवार संग (बच्चे) नहीं देख सकते।

देखें या ना देखें

ये फिल्म एक्शन और एंटेरटेनमेंट से भरपूर है। आप इसे अपने दोस्तों के साथ ज़रूर देखें।
रेटिंग – 3.5/5

Advertisement