Advertisement

नागिन सीजन 4 अपडेट: वृंदा को फंसाने के लिए विशाखा ने बुना जाल, क्या बच पाएगी वृंदा?

नागिन सीजन 4 (Naagin 4) में वृंदा (Nia Sharma) देव (Vijayendra Kumeria) को सारी बाते भुलाने के लिए उसे डंसने की कोशिश करती है। तो वहीं दूसरी तरफ विशाखा (anita hassanandani) ने वृंदा (Nia Sharma) को फंसाने के लिए बुना ये जाल

280

नागिन सीजन 4 (Naagin 4) में 23 फरवरी को दिखाया गया कि  वृंदा (Nia Sharma) देव (Vijayendra Kumeria) को सारी बाते भुलाने के लिए उसे डंसने की कोशिश करती है। पर दादी के लेप लेकर आती  है देव के लिए और बताती है कि वह सो गया है। देव के सो जाने से वृंदा का सारा प्लान फेल हो गया। विशाखा (anita hassanandani) वृंदा का रूप लेकर  बाबा के पास जाती है और अपनी मां से बात करने के लिए कहती है। बाबा उसे तिलस्मी किताब देते हैं और कहते हैं कि इसे मंदिर के बाहर ले जाना निषेध है।  वृंंदा उर्फ विशाखा मोबइल से तिलस्मी किताब की तस्वीर निकालकर ले जाती है।

Advertisement

देव की नींद खुलते ही वह बृंदा को डांटने लगता है। वह बृंदा को कहता है कि तुम्हारा सच जान गया हूं मैं। वृंदा को लगता है कि देव उसके नागिन होने का सच जान लिया है। तब देव उससे कहता है कि उसने पार्टी में अपने एक्स बॉयफ्रेंड देव को पार्टी में बुलाया था। वृंदा देव के मुंह से ये बात सुन राहत की सांस लेती है। बाद में वह देव को वाशरुम में जबरदस्ती ले जाकर उसके सर पर लगे लेप को साफ करती है।

देव वृंदा से पूछता है कि उसने रजत को पार्टी में क्यो बुलाया था। वृंदा उसे बताना ज़रूरी नहीं समझती कहकर चली जाती है। विशाखा वृंदा को बताती है कि उसने अगर टाइम पर देव को नहीं डंसा होता तो उसे सब सच पता चल जाता है। विशाखा वृंदा को जाल में फंसाने की योजना बनाती है। वह लॉकेट के जरिए वृंदा की मां बनकर उससे बात करती है। साथ ही इशारा देती है कि उसकी मां लाल टेकड़ी की गुफा में है। तब तक स्वरा आ जाती है और वृंदा उसके पास चली जाती है।

वृंदा के व्रत की बात जानकर  देव भी खाना नहीं खाता है। वृंदा विशाखा से कहती है कि वह लाल टेकड़ी मंदिर गई थी पर उसे उसकी मां नहीं मिलती है। विशाखा उससे बताती है कि वह तिलस्मी मंदिर है जो महाशिवरात्री को महाआरती के समय सूर्य की पहली किरण पड़ने पर खुलेगा। विशाखा वृंदा से कहती है जैसे ही आरती शुरू होगी वह उसकी जगह खड़ी हो जाएगी आरती में, तब वह (वृंदा) अपनी मां को गुफा से निकाल सकती है।

आरती के दौरान विशाखा वृंदा को नक्शा देती है उसकी मां को ढूंढने के लिए। विशाखा नकली मान्यता नागिन को गुफा में जाकर वृंदा की मां बनने का नाटक करने के लिए कहती है। विशाखा देव से नागमणि लेने की योजना बनाती है। स्वरा वृंदा से पूछती है वह कहां जा रही है तब वह स्वरा से गलती में आकर कह देती है कि वह अपनी असली मां को ढूंढने जा रही है।  स्वरा वृंदा को बताती है कि उसके बाबा ने उसे मंदिर से उठाकर लाया है।

[यह भी पढ़ें: रिलीज़ हुआ नागिन 4 का पहला प्रोमो, निया और जैस्मीन के बाद हुई इस मेल लीड एक्टर की एंट्री]

स्वरा को रोते देख वृंदा उससे कहती है स्वरा को उससे कोई अलग नहीं कर सकता है। इसके बाद स्वरा भी वृंदा के साथ उसकी असली मां को ढूंढ रही है। मंदिर में नकली मान्यता वृंदा को मिल जाती है। दूसरी तरफ गरबा के दौरान विशाखा वृंदा बन देव के साथ डांस करती है। यहां रजत भी आ जाता है जिसे देख देव हैरान है। नकली मान्यता ने वृंदा को बेल पत्र छूने से मना करती है। स्वरा परेशान होकर पूछती है कि शिवजी को चढ़ाया जानेवाले बेलपत्र को वृंदा हाथ क्यो नहीं लगा सकती है।

 

Advertisement