Advertisement

घोड़े वाले मामले को लेकर सोनम कपूर पर जमकर भड़की ये बॉलीवुड ऐक्ट्रेस, किए भद्दे कमेंट

सोनम कपूर (Sonam Kpoor) ने हाल ही में पेटा (Peta) को सपोर्ट करते हुए बताया कि उनके पति ने की बारात में घोड़े या तेज़ म्यूजिक नहीं था। सोनम के इस बयान को पर अब इस बॉलीवुड एक्ट्रेस का फूटा गुस्सा।

224

बॉलीवुड एक्ट्रेस सोनम कपूर (Sonam Kpoor) सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहती हैं। पर उन्हें अधिकतर अपने बयानों के लिए ट्रोल होना पड़ता है। हाल ही में सोनम ने अपने ट्वीटर अकांउट पर पेटा (Peta) के ट्वीट को री-ट्वीट करते हुए लिखा था कि उनके पति बारात में घोड़ा और तेज म्यूज़ि के साथ नहीं आए थें। वहीं सोनम के इस ट्वीट को री-ट्वीट करते हुए पायल रोहतगी (Payal Rohatgi) ने उनपर अपना गुस्सा उतारा। चलिए आपको बताते हैं कि क्या है आखिर पूरा मामला।

Advertisement

दरअसल पेटा (Peta) ने अपने ट्वीटर अकाउंट पर एक वीडियो शेयर किया है, जहां लिखा हुआ है “उत्साहित भीड़, पटाखे, और ज़ोर से संगीत है। लेकिन अक्सर घोड़ों को  नियंत्रित करने के लिए उनके मुंह में नुकीले बिट्स उपयोग किए जाते हैं ताकि उन्हें रक्तस्राव और दर्द हो।” पेटा (Peta)  ने इस वीडियो को सोनम के साथ टैग करते हुए कैप्शन में लिखा है “सोनम कपूर, शादी घोड़ों के लिए मजा नहीं है। ”

अब सोनम ने इस ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए लिखा है “मेरे पति के पास घोड़े या तेज़ म्यूज़िक के साथ कोई बारात नहीं थी। इस सटीक कारण के लिए।” लेकिन सोनम का यह बयान पायल रोहतगी (Payal Rohatgi) को पूरी तरह से नागवार गुज़र रहा है। पायल ने सोनम के ट्वीट को री-ट्वीट करते हुए लिखा “राम राम जी, तुम मांस खाती हो बेवकूफ औरत। जो जानवरो को मारने के बाद तैयार किया जाता है। यह महिला शाकाहारी नहीं है। आशा है, कि जल्द ही आपको बुद्धि मिले।”

View this post on Instagram

#QutubMinar एक वाहियात इमारत है । यह बनाई गयी हिन्दू और जैन मंदिरो को तोड़कर और यह सच छुपाया गया ७० साल से भारत के अंदर secularism के नक़ाब के पीछे। मैं खुद क़ुतुब मीनार देखने गयी हूँ और मैंने अपनी आँखो से वहाँ मूर्तियाँ देखी सनातन धर्म के मंदिरो के अंदर हम जो देखते हैं। वहाँ पर गौमाता की मूर्ति, महिलाओं की मूर्ति, साधु की meditation की मूर्ति, घंटी की छवि और बहुत सारी carvings देखी जो सिर्फ़ मंदिरो में दिखती है ना की इस्लाम के कोई इमारत में। मगर भारत के लोगों को आज़ादी या नी Transfer of Power जो १४ august १९५७ को मिला उसके बाद भारत के पहले education minister Maulana Abdul Kalam ने भारत के इतिहास को ग़लत तरीक़े से रचा, ग़लत कहानियाँ द्वारा। उसने जो कुछ किताबों में पढ़ाया उससे भारतीय नौजवान अपने भारतीय होने पर शर्मिंदगी महसूस करता और अपने आक्रमणिओं जी जय जय कार करता। आज भी पाठशाला में Aurangzeb को महान बताया जाता है जिसने खुद के बाप को मार डाला था। Transfer of Power, Lord Mountbatten के किया और एक तरफ़ दि सत्ता नेहरु को और दूसरी तरफ़ दी सत्ता Jinnah को। Jinnah जिसने २६००० हिंदुओं का नरसंहार करके इस्लामिक देश की माँग पूरी करवाई ? उसे seculars Islamist आतंकवाद नहीं कहते परंतु Gandhi के हत्यारे को हिंदू आतंकवादी ज़रूर कहते है? यह seculars 9/11, 26/11, कश्मीरी पंडितो का नरसंहार, पुलवामा यह सब के पीछे की सोच को कुछ नहीं कहते परंतु गांधी, जो भारतीय सेना को world war २ में भजने के समर्थन में था उसके खूनी को हिंदू आतंकवादी ज़रूर कहते हैं। Secularism में Gazwa-e-Hind, अपना धर्म पालने का अधिकार है और भारतीय संस्कृति पालना पिछड़ी सोच है। यह दोगलेपन की निशानी है Qutub Minar जो एक इतिहासिक इमारत ज़रूर है परंतु वाहियात इमारत है जो हिंदू/जैन मंदिरो को तोड़कर बनाई गयी है ? #payalrohatgi

A post shared by Team Payal Rohatgi (@payalrohatgi) on

गैरतलब है कि न केवल पायल बल्कि कई यूजर्स ने सोनम को इसके लिए ट्रोल किया है। अब देखना यह है कि पायर के इस बयान पर सोनम क्या प्रतिक्रिया देती हैं।

[यह भी पढ़ें: मोहन भागवत के तलाक वाले बयान को सोनम कपूर ने बताया मूर्खतापूर्ण, लोगों ने कर दिया ट्रोल]

Advertisement