Advertisement

रुई से बादल और अगरबत्ती के धुएं से कोहरा, रामायण में स्पेशल इफ़ेक्ट की जगह दिखे ये जुगाड़

रामानंद सागर(Ramanand Sagar) के लिए रामायण(Ramayan) में स्पेशल इफेक्ट्स दिखाना बहुत चुनौतीपूर्ण था

100

सरकार ने कोरोना महामारी(Corona Virus) लॉकडाउन(Lock Down) में लोगों के मनोरंजन के लिए रामानंद सागर(Ramanand Sagar) के मशहूर पौराणिक शो रामायण(Ramayan) का रिपीट टेलीकास्ट करने के फैसला लिया था। लोगों ने तीन दशक के बाद भी शो के रिपीट टेलीकास्ट को काफी पसंद किया।

Advertisement

पर क्या आपको पता है उस दौरान रामायण की शूटिंग कैसे हुई थी? रामायण के निर्देशक रामानंद सागर ने शो को बहुत कम बजट और संसाधनों की मदद से तैयार किया था। लेकिन कम बजट के बावजूद रामानंद सागर ने दर्शकों को ऐसी भव्य प्रस्तुति दिखाई कि हर कोई शो का मुरीद हो गया। 

उस जमाने में रामानंद सागर के लिए रामायण बनाना बहुत कठिन था। क्योंकि उस दौरान बीएफ़एक्सस तकनीक इतनी आधुनिक नहीं थी। जिसके कारण निर्देशक को तकनीक से ज्यादा जुगाड़ पर भरोसा करना पड़ता था। रामायण तैयार करने के दौरान सामने आई चुनौती पर प्रेम सागर ने खुलकर बातचीत की है। 

प्रेम सागर ने बताया कि, ‘सुबह की शूटिंग के दौरान हम अगरबत्ती की मदद से कोहरा तैयार करते थे। वहीं अगर रात की शूटिंग हुई करती तो, हम रुई की मदद से बादल तैयार किया करते थे। हम कई बार रात की शूट के दौरान शीशे पर रुई लगा दिया करते थे। फिर उसे कैमरे में फिट कर शूट करते थे। स्लाइड प्रोजेक्टर में कई ऐसी स्लाइड प्रोजेक्टर का इस्तेमाल किया गया, तब जाकर ऐसे इफ़ेक्ट देखने मिलते थे। 
 
ऐसे तो रामायण के कई सीन जबरदस्त और ना भूला जाने वाले हैं। इनमें से ऐसा एक सीन भगवान शिव का हिमालय पर नृत्य करने वाला था। इस सीन को शूट करने के लिए कई तरह के जुगाड़ों का इस्तेमाल किया गया था, हमने बैकग्राउंड में एक शीशे का इस्तेमाल किया था। फिर प्रोजेक्टर की मदद से छोटे ग्रहों की तस्वीर दिखाई थी। 
 
वहीं रामायण में युद्ध के सीन्स भी बड़े अनोखे तरीके से शूट किये जाते थे। वो बादलों का गर्जना और तीरों का आपस में टकराने वाले सीन्स आज भी लोग के जहन में ताजा है। उस जमाने में इन सीन्स को शूट करने के लिए SEG 2000 तकनीक का इस्तेमाल किया गया था। उस जमाने में यह तकनीक बिलकुल लेटेस्ट थी। प्रेम सागर ने बताया कि, ‘इफेक्ट्स के लिए ‘ग्लास मेटिंग’ का भी इस्तेमाल किया गया था।  

 

यह पढ़ें-  रामायण की सीता के नाम से सोशल मीडिया पर फ़र्ज़ी अकाउंट बनाकर किया ये काम, एक्ट्रेस ने किया सावधान

 बता दें कि, रामायण की सफलता के पीछे तकनीक के साथ-साथ कलाकारों का भी कड़ा परिश्रम है। कलाकार शो की शूटिंग रात दिन किया करते थे।  बॉलीवुड जगत से जुड़ी हर एक अपडेट के लिए बॉलीवुड बबल हिंदी के साथ बने रहियें।  

Advertisement