Advertisement

रामायण में लक्ष्‍मण को संजीवनी बूटी देने वाले सुषेण उज्‍जैन में बेचा करते थे पान, ऐसे मिला था किरदार

‘रामायण’ (Ramayan) यह शायद ही आप जानते होंगे कि लक्ष्‍मण जी को संजीवनी बूटी देने वाले सुषेण वैद्य कौन थे। जिनको हनुमान जी घर समेत उठाकर भगवान राम की शरण में ले आए थे।

2,055

लोगों की डिमांड पर रामानंद सागर (Ramanand Sagar) की ‘रामायण’ (Ramayan) को दूरदर्शन पर पुन: प्रसारित किया जा रहा है। लॉकडाउन के चलते शुरू हुई ‘रामायण’ ने टीआरपी के कई बड़े रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। वर्तमान में टीवी पर प्रसारित हुई रामायण में लक्ष्‍मण जी के मूर्क्षित होने का एपिसोड दिखाया जा रहा है। लेकिन यह शायद ही आप जानते होंगे कि लक्ष्‍मण जी को संजीवनी बूटी देने वाले सुषेण वैद्य कौन थे। जिनको हनुमान जी घर समेत उठाकर भगवान राम की शरण में ले आए थे।

Advertisement

जानें कौन थे ‘रामायण’ में सुषेण वैद्य की छोटी सी भूमिका से सभी का दिल जीतने वाले सितारे..

1 सुषेण वैद्य

सुषेण वैद्य

‘रामायण’ में लक्ष्‍मण जी को संजीवनी बूटी देने वाले सुषेण वैद्य की भूमिका निभाने वाले सितारे रमेश चौरसिया थे। स्व. रमेश चौरसिया मध्यप्रदेश के उज्जैन के रहने वाले थे। जहां वह अपनी पान की दुकान चलाया करते थे।

2 रावण से थी खास दोस्‍ती

रावण से थी खास दोस्‍ती

रमेश चौरसिया ने एक इंटरव्यू में बताया था कि रामायण में रावण का रोल निभाने वाले अरविन्द त्रिवेदी से उनकी अच्छी मित्रता थी। उन्हीं की वजह से रमेश को सुषेण वैद्य का रोल निभाने का मौका मिला था।

3 इसके चलते मिला वैद्य का किरदार

इसके चलते मिला वैद्य का किरदार

रमेश लंबी दाढ़ी और बाल रखा करते थे। उनकी कदकाठी वैद्यराज की तरह ही लगती थी इसलिए रामानंद सागर ने उन्हें ये रोल करने का मौका दिया था।

4 कुछ यूं आ गए थे लाइमलाइट में

कुछ यूं आ गए थे लाइमलाइट में

रामायण में किरदार निभाने के बाद रमेश चौरसिया की ख्याति इतनी बढ़ गई थी कि लोग दूर-दूर से उनसे मिलने आया करते थे। कई बार तो उन्हें वैद्य समझ कर कुछ लोग इलाज कराने पहुंच जाया करते थे।

5 अपने किरदार की तस्‍वीरें कराईं थी फ्रेम

अपने किरदार की तस्‍वीरें कराईं थी फ्रेम

रमेश चौरसिया ने अपनी भूमिका के तस्‍वीरें फ्रेम कर अपनी दुकान पर लगवा दिए थे जिसे लोग आते-जाते देखा करते थे। उनकी दुकान पर अक्सर मिलने वालों की भीड़ रहती थी। इन सबके बावजूद वो एक सामान्य व्यक्ति की तरह ही सबसे व्यवहार करते थे।

Advertisement