Advertisement

पाकिस्तान में आज भी है कपूर ख़ानदान की 102 साल पुरानी हवेली, देखें अब दिखती है ऐसी

अभिनेता ऋषि कपूर (Rishi Kapoor) अब हमारे बीच नही हैं। भले ही ऋषि कपूर ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया है। लेकिन उनसे जुड़ी तमाम यादें और उनकी विरासत हमेशा जिंदा रहेगी।

3,895

बॉलीवुड के दिग्‍गज अभिनेता ऋषि कपूर (Rishi Kapoor) अब हमारे बीच नही हैं। भले ही ऋषि कपूर ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया है। लेकिन उनसे जुड़ी तमाम यादें और उनकी विरासत हमेशा जिंदा रहेगी। बता दें, अभिनेता ने उस परिवार में जन्म लिया था, जिनके खून में एक्टिंग दौड़ती है। उनसे जुड़ी ऐसी ही एक विरासत है पाकिस्तान के पेशावर शहर में स्थित ‘कपूर हवेली’।

Advertisement

यहां देखें ‘कपूर हवेली’ से जुड़ी उनकी दिलचस्‍प बातें और उसकी उसकी तस्‍वीरें..

1 ‘कपूर हवेली’

‘कपूर हवेली’

भारतीय सिनेमा के शोमैन कहे जाने वाले पृथ्वीराज कपूर का जन्म पाकिस्तान में बनी इस पुश्तैनी हवेली में ही हुआ था। यह हवेली पेशावर के किस्सा ख्वानी बाजार में स्थित है। यहीं पर ऋषि कपूर के पिता राज कपूर का भी जन्म हुआ था।

2 ‘कपूर हवेली’ का निर्माण

‘कपूर हवेली’ का निर्माण

खबरों की मानें तो इस पुश्तैनी हवेली का निर्माण भारत-पाकिस्तान के विभाजन से पहले हुआ था। ये हवेली 1918 से 1922 के बीच बनकर तैयार हुई थी। इसे राज कपूर के दादा और पृथ्वीराज कपूर के पिता दीवान बशेश्वरनाथ ने बनवाया था। जिसके बाद इसे ‘कपूर हवेली’ के नाम से पहचाने जाने लगा।

3 पुश्तैनी हवेली से म्यूजियम

पुश्तैनी हवेली से म्यूजियम

साल 2018 में ऋषि कपूर ने अपनी पुश्तैनी हवेली को म्यूजियम में बदलने का अनुरोध पाकिस्तान सरकार से किया था। जिसके बाद पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा था, “हमें ऋषि कपूर ने फोन किया था। उन्होंने अपने पेशावर स्थित घर को किसी संस्थान या म्यूजियम में बदलने की गुजारिश की थी। हमने इस मांग को स्वीकार कर लिया है।”

4 ऋषि कपूर का हुआ था हवेली में स्‍वागत

ऋषि कपूर का हुआ था हवेली में स्‍वागत

साल 2016 में ऋषि कपूर ने पुश्तैनी हवेली को लेकर एक ट्वीट करते हुए तस्वीर शेयर की थी। जिसमें उन्‍होंने लिखा था, “किसी ने मुझे ये भेजी है, पेशावर में स्थित हवेली के बाहर मैं और रणधीर दिखाई दे रहे हैं। जिसमें हमारा स्वागत किया जा रहा है।”

5 भूकंप के कारण ढह गई है हवेली


भूकंप के कारण ढह गई है हवेली

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार पांच मंजिल में से तीन मंजिल सालों पहले ढह गई थीं, क्योंकि इसके ऊपरी हिस्से में भूकंप के कारण दरारें पैदा हो गई थीं। लेकिन अभी भी इसमें लगभग 60 कमरे बचे हुए हैं। यह इमारत आज व्यावसायिक भवनों से घिरी हुई है।

6 कपूर हवेली जा चुके हैं ऋषि कपूर

कपूर हवेली जा चुके हैं ऋषि कपूर

ऋषि ने एक इंटरव्यू में बताया था, साल 1990 में मैं पेशावर हवेली देखने जा चुका हूं। जहां पर हमें बताया गया था ये मेरे पिताजी और दादाजी का जन्म स्थान है।

7 बच्‍चों को हवेली दिखाना चाहते थे ऋषि कपूर

बच्‍चों को हवेली दिखाना चाहते थे ऋषि कपूर

अपने एक इंटरव्‍यू में ऋषि कपूर ने कहा था, “मैं अपने बच्चों को पेशावर की ये हवेली दिखाना चाहता हूं। मेरे पिताजी, माताजी, दादाजी, सभी का जन्म पेशावर में हुआ था और मेरा मुंबई में। ऐसे में मैं अपने बच्चों को पुश्तैनी हवेली से रूबरू कराना चाहता हूं।”

8 अधूरी रह गई हवेली दिखाने की ख्‍वाहिश

अधूरी रह गई हवेली दिखाने की ख्‍वाहिश

इंटरव्‍यू में ऋषि‍ कपूर ने कहा था, “यदि कभी मौका मिला तो जरूर हवेली देखने जाएंगे और नहीं मिला तो मैं ये चाहूंगा की मेरे बेटे रणबीर के बच्चे जरूर जाकर देखें कि हमारी शुरुआत इस जगह से हुई थी।” हालांकि अब दिग्‍गज अभिनेता के अचानक गुजर जाने से उनकी यह ख्‍वाहिश अधूरी रह गई है।

Advertisement