Advertisement

दिग्‍गज अभिनेता श्रीराम लागू की ज़िंदगी के ये अनसुने पहलू आप शायद ही जानते होंगे

हिंदी और मराठी सिनेमा के दिग्‍गज अभिनेता और रंगकर्मी श्रीराम लागू (Shriram Lagoo) का 92 की वर्ष की उम्र में पुणे में निधन हो गया।

509

हिंदी और मराठी सिनेमा के दिग्‍गज अभिनेता और रंगकर्मी श्रीराम लागू (Shriram Lagoo) का 92 की वर्ष की उम्र में पुणे में निधन हो गया। मी‍डिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मंगवार लगभग साढ़े सात बजे पुणे में उन्होंने अंतिम सांस ली। 42 साल की उम्र मे रंग मंच और सिनेमा तरफ रुख करने वाले इस दिग्‍गज अभिनेता से जुड़े अनकहे किस्‍से शायद ही जानते होंगे आप।

Advertisement

पेशे से डॉक्‍टर, दिग्‍गज अभिनेता और रंगकर्मी श्रीराम लागू की इन बातों को शायद ही आप जानते होंगे..

1 जन्‍म और बचपन

जन्‍म और बचपन
Source-Google

दिग्‍गज अभिनेता और रंगकर्मी श्रीराम लागू का जन्‍म 16 नवंबर 1927 को सातारा में हुआ था। बचपन से ही लागू को एक्‍ट‍िंग का बेहद शौक था, जो पुणे और मुंबई में पढ़ाई करने के दौरान भी चलता रहा।

2 पढ़ाई और रंगमंच

पढ़ाई और रंगमंच
Source-Google

पढ़ाई के लिए श्रीराम लागू ने मेडिकल को चुना। अपने डॉक्‍टरी के पेशे के चलते वह अफ़्रीका समेत कई देशों में गए। लेकिन एक सर्जन का काम करते हुए भी उनके मन में एक्टिंग का शौक पनपता रहा।

3 डॉक्‍टरी और अभिनय

डॉक्‍टरी और अभिनय
Source-Google

अपनी उम्र के दो दशक से ज्‍यादा वक्‍त डॉक्‍टरी में गुजारने के बाद श्रीराम लागू 42 साल की उम्र अभिनय को अपना पेशा बना लेते हैं। 1969 में वह पूरी तरह मराठी थिएटर से जुड़ गए।

4 मराठी थिएटर

मराठी थिएटर
Source-Google

मराठी थिएटर में तो उन्हें 20वीं सदी के सबसे बेहतरीन कलाकारों में गिना जाता है। इतना ही नहीं श्रीराम लागू ने 20 से अधिक मराठी नाटकों का निर्देशन भी किया। ‘नटसम्राट’ नाटक में अहम भूमिका निभाई, जिसे मराठी थिएटर के लिए मील का पत्थर माना जाता है।

5 ‘नटसम्राट’

‘नटसम्राट’
Source-Google

‘नटसम्राट’ नाटक में उन्होंने गणपत बेलवलकर की भूमिका निभाई। इतना ही नहीं यह रोल इतना कठिन माना जाता था कि इस रोल को निभाने वाले बहुत सारे एक्टर गंभीर रूप से बीमार हुए। वहीं नटसम्राट के इस रोल के बाद डॉक्टर लागू को भी दिल का दौरा पड़ा था।

6 घरौंदा और फिल्मफेयर

घरौंदा और फिल्मफेयर
Source-Google

श्रीराम लागू ने हिंदी और मराठी फ़िल्मों में कई यादगार रोल किए। लेकिन 1977 में आई फिल्म ‘घरौंदा’ का वो उम्रदराज बॉस जो अपने ऑफिस में काम करने वाली एक युवा लड़की से शादी करता है, वो हमेशा याद किया जाता है। ‘घरौंदा’ के लिए उन्हें फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ सहअभिनेता का अवॉर्ड मिला था।

7 फिल्‍में

फिल्‍में
Source-Google

श्रीराम लागू ने अपने कैरियर में करीब 100 से ज्यादा हिंदी और 40 से ज्यादा मराठी फिल्मों में काम किया है। उन्होंने ‘आहट: एक अजीब कहानी’, ‘पिंजरा’, ‘मेरे साथ चल, ‘सामना’, ‘दौलत’ जैसी कई फिल्मों में अभिनय किया है।

8 श्रीराम लागू और आत्मकथा

श्रीराम लागू और आत्मकथा
Source-Google

रिचर्ड एटनब्रा की फिल्म ‘गांधी’ में गोपाल कृष्ण गोखले का उनका छोटा सा रोल भी हमेशा याद रहता है। दिग्‍गज एक्‍टर नसरुद्दीन शाह ने एक बार कहा था कि श्रीराम लागू की आत्मकथा ‘लमाण’ किसी भी एक्टर के लिए बाइबल की तरह है।

Advertisement