Advertisement

सोनू सूद ने अपने आलोचकों को दिया करारा जवाब, कर दी ये बड़ी घोषणा

बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद (sonu sood) कोरोना (corona)महामारी के बीच मजदूरों के लिए एक मसीहा बनकर आए हैं। सोनू सूद ने 50 हज़ार से अधिक मजदूरों को उनके घर तक पहुंचाने का बीड़ा उठाया है।

1,090

बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद (sonu sood) कोरोना (corona)महामारी के बीच मजदूरों के लिए एक मसीहा बनकर आए हैं। सोनू सूद ने 50 हज़ार से अधिक मजदूरों को उनके घर तक पहुंचाने का बीड़ा उठाया है। सोनू लगातार अपना काम जारी रखे हुए हैं। लेकिन इसी बीच उनकी आलोचना भी हो रही है। कोई इसे उनका पब्लिसिटी स्टंट बता रहा है तो कोई उन्हें बीजेपी का दलाल कह रहा है। लेकिन आलोचना की परवाह किए बगैर सोनू अपने काम मे जुटे हुए हैं। इसी बीच सोनू सूद ने अपने आलोचकों को करारा जवाब दिया है।

Advertisement

सोनू सूद को हाल ही मे शिवसेना के संजय राऊत ने बीजेपी का दलाल कहा था। संजय राऊत ने सामना अखबार के जरिये ये बात कही थी। इस पर सोनू सूद ने चुप्पी तोड़ी है। सोनू ने कहा “मुझे राजनीति से कोई लेना-देना नहीं है। ये सब बस मैं प्रेमवश कर रहा हूं। मैं उन्हें उनके परिवार से मिलाने में मदद करना चाहता हूं।“

सोनू सूद ने ये भी कहा कि, “मेरी इच्छा है कि हर मजदूर के अपने घर पहुंचने तक काम करता रहूं। यात्रा पूरे जोश से जारी रहेगी। किसी को बेघर नहीं रहना चाहिए। हम चाहते हैं कि वे सुरक्षित अपने घर पहुंच जाएं।“

बता दें, सोनू सूद ने हाल ही मे 180 मजदूरों को मुंबसे से असम फ्लाइट के ज़रिये भेजा। निसर्ग तूफान के कारण ट्रेन रुक गई थीं। ऐसी मे पुणे से आए 180 मजदूर मुंबई रेलवे स्टेशन पर फंस गए थे। इन मजदूरों के लिए सोनू ने फ्लाइट बुक की थी।

[यह भी पढ़ें:ट्रेन रुक गई तो सोनू सूद ने असम के मजदूरों के लिए फ्लाइट बूक कर दी]

इतना ही नहीं कोच्ची की 177 लड़कियों को भी सोनू सूद ने फ्लाइट के ज़रिये उनके घर रवाना किया था। सोनू सूद ने अब तक करीब 20 हजार मजदूरों को ओडिशा, बिहार, उत्तरप्रदेश और झारखंड लौटने में मदद की है।

Advertisement