Advertisement

प्रवासी मजदूरों के लिए मसीहा बने अभिनेता सोनू सूद, सोशल मीडिया पर लोगों ने रियल लाइफ हीरो करार दिया 

अभिनेता सोनू सूद(Sonu Sood) ने गरीब प्रवासी मजदूरों के लिए मदद का हाथ आगे बढ़ाया

420

कोरोना महामारी(Corona Virus) लॉकडाउन(Lock Down) में बॉलीवुड सितारें भी गरीबों की दिल खोलकर सहायता कर रहे हैं। अब इस कड़ी में अभिनेता सोनू सूद(Sonu Sood) का नाम जुड़ चुका हैं। सोनू ने लॉकडाउन की सबसे ज्यादा मार झेल रहें प्रवासी मजदूरों के लिए मदद का हाथ आगे बढ़ाया हैं। उन्होंने पैदल और रेलवे ट्रैक पर चलकर जाने के लिए मजबूर मजदूरों के लिए बसों की व्यवस्था की हैं।

Advertisement

वहीं सोनू सूद ने अपनी बचपन की दोस्त नीति गोयल के साथ ‘घर भेजो’ पहल की भी शुरुआत की है। 11 मई से सोनू सूद और उनके दोस्त ने 21 बसों को हरी झंडी दिखाई है। जिनमें से 11 बस 750 मजदूरों को लेकर कर्नाटक और उत्तर प्रदेश लेकर पहुंची हैं। वहीं 10 बसों को बिहार और यूपी के लिए रवाना किया गया है।

इसके बारे में जानकारी देते हुए सोनू सूद ने कहा कि, ‘हमारे लिए सबसे मुश्किल काम मजदूरों के गृह राज्य से अनुमति लेना था। हमने सुनिश्चित किया कि प्रवासियों के पास जरुरी दस्तावेज हो ताकि उन्हें सीमाओं पर डॉक्यूमेंट के चलते रोका ना जाएं।

बता दें कि, सोनू और नीति इन बसों का किराया अपने जेब से दे रहे हैं। उन्हें 800 किलोमीटर की प्रत्येक ट्रिप के लिए जहां 64 हजार और 1500 से 2000 किलोमीटर की ट्रिप के लिए 1 लाख 18 हजार रूपए चुकाने पड़ रहे हैं।  वहीं नीति ने कहा कि, ‘शुरुआत में हमें डोनर्स को ढूंढने में परेशानी हुई, लेकिन अब हमें इस काम में कई फिल्म इंडस्ट्री और कॉर्पोरेट जगत के लोग भी मदद कर रहे हैं।

सोनू की इस नेक पहल के लिए सोशल मीडिया पर फैंस उनकी बहुत ज्यादा सराहना कर रहे हैं। लोग सोनू को रियल लाइफ हीरो बता रहे हैं। कुछ लोग ने तो सोनू को मजदूरों का मसीहा तक करार दे दिया।  सोनू ने मदद मांगने वाले ज्यादातर लोगों को ट्विटर पर जवाब दिया हैं। आप भी देखिये लोगों के कमेंट …….

 

 

यह भी पढ़ें- रमज़ान के महीने मे 25 हज़ार लोगों के खाने का इंतज़ाम करेंगे सोनू सूद

भारत में लॉकडाउन की सबसे ज्यादा मार गरीब दिहाड़ी मजदूरों पर पड़ी है। ऐसे कठिन समय में अभिनेता सोनू सूद का मदद के लिए आगे आना सच में बहुत ज्यादा प्रेरणादायक है। बॉलीवुड जगत से जुड़ी हर एक अपडेट के लिए बॉलीवुड बबल हिंदी के साथ बने रहियें।

Advertisement