Advertisement

सुशांत सिंह राजपूत के पिता के के सिंह ने बेटे के बारे में बताई ऐसी बातें, जानकर दिल खुश हो जाएगा आपका 

अभिनेता सुसंत सिंह राजपूत(Sushant Singh Rajput) के पिता के के सिंह(K.K. Singh) ने उनसी जुड़ी ऐसी बातें बताई

989
अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत(Sushant Singh Rajput) के निधन से उनके पिता के के सिंह(K.K. Singh) बहुत ज्यादा दुखी हैं। बेटे के निधन से उनका बहुत बुरा हाल है। सुशांत चार भाई -बहन में इकलौते बेटे थे। इसी बीच सुशांत के पिता के के सिंह ने बेटे को एक इंटरव्यू में याद किया है। उन्होंने सुशांत से जुड़ी कुछ अनसुनी बातें बताई हैं। जिन्हें जानकार आपका दिल खुश हो जाएगा।

Advertisement

केके सिंह ने बेटे सुशांत को याद करते हुए कहा कि, ‘वह एक विशेष आत्मा था और उसने ख़ुदके दम पर अपनी पहचान बनाई थी। बता दें कि, सुशांत ने अपने छोटे से फ़िल्मी करियर में कई सुपरहिट मूवी दी थी। जिनमें ‘एमएस धोनी- द अनटोल्ड स्टोरी’ और ‘छिछोरे’ जैसी फ़िल्में शामिल हैं। इन फिल्मों में सुशांत के दमदार अभिनय की काफी सराहना हुई थी। 
जब केके सिंह से सुशांत के फ़िल्मी करियर को लेकर सवाल पूछा गया तो, उन्होंने बताया कि, ‘वो मुझे बिना सूचित किये मुंबई चले गया था। उसने अपनी बड़ी बहन नीतू से इस बारे में बात की और अपने सपने पूरे करने निकल गया। वह डरता था क्योंकि मैं उसे पढ़ाई पूरी करने के लिए कहूंगा। जिसके बाद उसे टीवी सीरियल में काम मिल गया। सुशांत सबकुछ मेरिट के आधार पर हासिल करने में विश्वास रखता था। 
उन्होंने आगे कहा कि, ‘मेरे बेटे ने खुद पहचान बनाई क्योंकि वह कहता मेरिट के आधार पर ही आगे बढ़ेगा’। आखिर में क्या हुआ ? इस बारे में मुझे नहीं पता। मेरी बेटियां कहती थी, उसे अपने सपने पूरे करने दो। सुशांत सच्चा था। लेकिन कभी कठोर नहीं था। वे दुनियादारी से दूर अपने व्यक्तित्व का पक्का था। जब वह डरता था। मैं उसे अनुमति नहीं देता था। तब वह अपनी बड़ी बहन से बात करता था। 

 

यह भी पढ़ें-  बेटे के निधन से बेहद दुखी हैं सुशांत सिंह राजपूत के पिता, तस्‍वीर देख नम हो जाएंगी आपकी आंखे

 के.के. सिंह ने यह भी बताया कि, ‘मैं खुद भी साधारण जीवन में विश्वास रखता था। मुंबई और फिल्मों से दूर रहता था। उन्होंने बताया कि, ‘धारावाहिक ‘पवित्र रिश्ता’ में काम मिलने के बाद सुशांत घर आया था। तब मैं बहुत खुश था। सुशांत कई प्राथनाओं और मन्नत के बाद पैदा हुआ था। वो ऐसा ही होता है, वो विशेष आत्मा था। उसने कुछ वर्षों में बहुत सफलता हासिल की थी। इतने छोटे जीवन में लोग इतना कुछ हासिल नहीं कर पाते। 

Advertisement